bharatiya janata party (BJP) logo

Press Releases

Press release by BJP National Media Head, Shri Anil Baluni on 11.7.2018

Accessibility

 

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख श्री अनिल बलूनी द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति

 

वर्ल्ड बैंक द्वारा हाल ही में जारी रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस को सातवें पायदान पर पीछे छोड़ते हुए भारत अब दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। इस पहले अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने भी वर्ल्ड इकॉनोमिक आउटलुक में भारत को विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बताया था। आज दुनिया के बड़े आर्थिक संगठनों एवं रेटिंग एजेंसियों के जो शोध अध्ययन प्रकाशित हो रही हैं, उन सभी रिपोर्टों में भारत की तेज आर्थिक रफ़्तार और अगले एक दशक में भारत के विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के निष्कर्ष प्रस्तुत किये जा रहे हैं। सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च के 2018 वर्ल्ड इकॉनिक लीग टेबल ने तो यहां तक कहा है कि 2018 के अंत तक ही भारत विश्व की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेगा। आर्थिक मोर्चे पर भारत का यह लाजवाब प्रदर्शन और सुनहरे भविष्य का संकेत प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार की आर्थिक सुधार की नीतियों व प्रभावी कार्यान्वयन का ही परिणाम है। भारतवर्ष को विकास और प्रगति के पथ पर नया अध्याय लिखने की ओर अग्रसर करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं उनके नेतृत्व में केंद्र की भाजपा-नीत एनडीए सरकार को हार्दिक साधुवाद!

मीडिया में वर्ल्ड बैंक के हवाले से प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस की 2.582 ट्रिलियन डॉलर सकल घरेलू आय (जीडीपी) की तुलना में भारत की जीडीपी 2.597 ट्रिलियन डॉलर हो गई है और भारत की आर्थिक विकास दर लगातार तेज गति से बढ़ रही है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि नोटबंदी और जीएसटी के आर्थिक सुधार के बाद मैन्युफेक्चरिंग एवं लोगों की क्रय शक्ति के बढ़ने से अर्थव्यवस्था में यह उछाल आया है। यह देश के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। ये आंकड़े काफी मायने रखते हैं और ये आगे की दिशा और हमारी नीतियों को भी तय करने में मदद करते हैं। इसका निवेश में भी सकारात्मक असर देखने को मिलेगा।

देश ने कांग्रेस की सरकार के समय एक दौर ऐसा भी देखा है जब अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के संदर्भ में भारत को ‘फ्रेजाइल फाइव’ की श्रेणी में रखा गया था मतलब भारत के लिए खुद की अर्थव्यवस्था तो एक समस्या थी ही, बल्कि यह वैश्विक अर्थव्यवस्था की रिकवरी में भी बाधा बन रही थी। इसके ठीक विपरीत  प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत पहली बार विश्व की सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बना। कांग्रेस की यूपीए सरकार के अंतिम 6 साल में 8 बार ऐसे मौके आए जब विकास दर 5.7 प्रतिशत या उससे नीचे गिरी जबकि मोदी सरकार में आर्थिक सुधार के कारण दो या तीन क्वार्टर छोड़ दिया जाय तो देश की आर्थिक विकास दर लगातार 7% से ऊपर रही। आईएमएफ के अनुसार 2018-19 में भारत की जीडीपी 7.4% और अगले वित्तीय वर्ष में बढ़ कर 7.8% रहने की उम्मीद है जबकि चीन में 2018 में विकास दर 6.6 फीसदी और 2019 में 6.4 फीसदी रहने का अनुमान है।

विश्व की तमाम आर्थिक संगठनों की रिपोर्ट में भारत को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की अग्रसर दिखाया गया है। लंदन स्थिति कंसल्टंसी फर्मसेंटर फॉर इकनॉमिक्स ऐंड बिजनस रिसर्चने पिछले साल के अंत में कहा था कि GDP के लिहाज से भारत ब्रिटेन और फ्रांस दोनों को पीछे छोड़ कर 2032 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ी आर्थिक ताकत बन जाएगा। आईएमएफ का कहना है कि यदि भारत आर्थिक और कारोबार सुधारों की प्रक्रिया को वर्तमान की तरह निरंतर जारी रखता है तो वर्ष 2030 तक भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। इसी तरह विश्वविख्यात ब्रिटिश ब्रोकरेज कंपनीहांगकांग एंड शंघाई बैंक कार्पोरेशन (एचएसबीसी)” ने अपनी अध्ययन रिपोर्ट  में कहा है कि अब भारत में आथक सुधारों के कारण अर्थव्यवस्था का प्रभावी रूप दिखाई दे रहा है और वर्ष 2028 तक भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। भारत के वित्त मंत्रालय  द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट में भी कहा गया है कि देश में जिलावार कृषि-उद्योग के विकास, बुनियादी ढांचे में मजबूती एवं निवेश मांग के निर्माण में यथोचित वृद्धि करने के लिए जो रणनीति बनाई गई, उससे 2025 तक भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार 5,000 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा, जोकि अभी लगभग 2500 अरब डॉलर है।

भारत का निर्यात वर्ष 2017-18 में लक्ष्य के अनुरूप 300 अरब डॉलर के ऊपर पहुंचा है। शेयर बाजार ने 30,000 के लक्ष्यांक को पार कर लिया है, विदेशी मुद्रा भंडार अपने रिकॉर्ड उच्चतम स्तर पर है और जीडीपी  में प्रत्यक्ष कर का योगदान भी कई गुना बढ़ा है। साथ ही, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व मेंमेक इन इंडिया' इनिशिएटिव के बल पर भारत अब विश्व का नया मैन्युफेक्चरिंग हब बनने की दिशा में तेज गति से अग्रसर है। अभी कल ही प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के साथ नोएडा में सैमसंग की सबसे बड़ी फैक्ट्री की आधारशिला रखी। वर्ल्ड बैंक ने भी कहा है कि उत्पादन गुणवत्ता के मामले में  चीन से आगे चल रहे भारत के मैन्युफैक्चरिंग सैक्टर में आगे बढऩे की अच्छी संभावनाएं मानी जा रही हैं। प्रख्यात वैश्विक शोध संगठन स्टैटिस्टा और डालिया रिसर्च द्वारा मेड इन कंट्री इंडैक्स 2016 में उत्पादों की साख के अध्ययन के आधार पर कहा गया है कि गुणवत्ता के मामले में मेड इन इंडिया मेड इन चाइना से आगे है। इतना ही नहीं, मोदी सरकार के अथक प्रयासों के कारण भारत निर्माण उद्योग के मामले में दुनिया में छठे स्थान पर पहुंच गया है, पहले हम 9वें स्थान पर थे।

मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था के हर पैरामीटर में व्यापक सुधार किया है। उपभोक्ता महंगाई दर लगातार गिरावट की ओर है, देश में एफडीआई फ्लो में रिकॉर्ड उछाल आया है और सरकार लगातार फिस्कल कंसॉलिडेशन की राह पर है। 2011-12 में यूपीए II के दौरान फिस्कल डेफिसिट जीडीपी का 5.9% था जो घट कर अब 3.5% पर आ गई है। विदेशी मुद्रा भंडार ने पहली बार 400 बिलियन डॉलर का आंकड़ा पार किया है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में चल रही भाजपा-नीत एनडीए सरकार के चार सालों में देश में प्रति व्यक्ति आय बढ़ी है, ग्लोबल कंपीटीटिव इंडेक्स में हम कई पायदान ऊपर चढ़े हैं और निर्यात में भी लगातार वृद्धि हो रही है। पिछले चार सालों में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने न्यू इंडिया की नींव रखने का काम किया है ताकि हम भारत को विश्व की सबसे बड़ी आर्थिक महाशक्ति बना सकें।

 

**********************

Tag: 8 | 7 | 30 | 2016 | 9

Share your views. Post your comments below.

Sign Out


Security code
Refresh